सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

संवत्सर (विक्रम संवत २०७९) / Samvatsar ( Vikram Samvat 2079)

संवत्सर (विक्रम संवत २०७९) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Samvatsar ( Vikram Samvat 2079) : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संवत्सर (विक्रम संवत २०७९) / Samvatsar ( Vikram Samvat 2079)
Author
Category,
Language
Pages 15
Quality Good
Size 13.8 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

संवत्सर (विक्रम संवत २०७९) का संछिप्त विवरण : धर्म वह अनुशासित जीवन क्रम है, जिसमें लौकिक उन्नति (अविद्या) तथा आध्यात्मिक परमगति प्राप्ति होती है। पाप अपने साथ रोग, शोक, पतन और संकट लेकर आता है। सो दससीस स्वान की नाईं। इत उत चितइ चला भड़िहाईं। इमि कुपंथ पग देत खगेसा। रह न तेज तन बुधि बल लेसा। वही दस सिरवाला रावण कुत्ते की तरह इधर उधर ताकता हुआ चोरी के लिए चला। मनुष्य के कुमार्ग पर पैर रखते ही शरीर में तेज तथा बुद्धि एवं बल का लेश भी नहीं रह जाता……..

Samvatsar ( Vikram Samvat 2079) PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dharm vah Anushasit jeevan kram hai, Jisamen laukik unnati (avidya) tatha aadhyatmik paramagati prapti hoti hai. Pap apne sath rog, shok, patan aur sankat lekar aata hai. So dasasees svan ki nayin. It ut chiti chala bhadihayin. Imi kupanth pag det khagesa. Rah na tej tan budhi bal lesa. Vahi das siravala Ravan kutte ki tarah idhar udhar takata huya chori ke liye chala. Manushy ke kumarg par pair rakhate hi shareer mein tej tatha buddhi evan bal ka lesh bhi nahin rah jata……..
Short Description of Samvatsar ( Vikram Samvat 2079) PDF Book : Dharma is that disciplined course of life, in which worldly progress (avidya) and spiritual perfection is attained. Sin brings with it disease, grief, downfall and distress. So like ten swans. It’s like that, let’s cry. Imi kupanth pag det khagesa. Don’t stay fast, take your body’s intellect and strength. The same ten-headed Ravana, looking here and there like a dog, went for theft. As soon as a person sets foot on the evil path, there is no trace of sharpness and intelligence and strength in the body……….
“कोई भी व्यक्ति जो सुंदरता को देखने की योग्यता को बनाए रखता है, वह कभी भी वृद्ध नहीं होता है।” ‐ फ्रेंक काफ्का
“Anyone who keeps the ability to see beauty never grows old.” ‐ Franz Kafka

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment