श्यामाकाली महाविद्या : गोस्वामी प्रह्राद गिरि द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Shyamakali Mahavidhya : by Goswami Prahad Giri Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameश्यामाकाली महाविद्या / Shyamakali Mahavidhya
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 366
Quality Good
Size 1.3 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

पुस्तक का विवरण : जगत का सर्वश्रेष्ठ प्राणी है ‘मानव’। मानव ही ऐसा व्यक्ति है जो कि सब कुछ करने के लिए समर्थ है। उसमें ऐसी क्षमता विद्यमान है जिससे कि वह ‘प्रकृति’ पर भी नियंत्रण पाने में सफल हो सकता है। उसके पास ‘विवेक’ नामका एक ऐसा विलक्षण साधन है जिसका की वह………

Pustak Ka Vivaran : Jagat ka sarvashreshth pranee hai manav. Manav hee aisa vyakti hai jo ki sab kuchh karane ke liye samarth hai. Usamen aisee kshamata vidyaman hai jisase ki vah prakrti par bhee niyantran pane mein saphal ho sakata hai. Usake pas vivek namaka ek aisa vilakshan sadhan hai jisaka kee vah…………

Description about eBook : The best creature in the world is ‘human’. Man is the only person who is capable of doing everything. It has such capability that it can succeed in controlling ‘nature’ as well. He has a unique tool called ‘Vivek’ which he………………

“फूलों की सुगंध केवल हवा के प्रवाह की दिशा में फैलती है लेकिन किसी व्यक्ति की अच्छाइयां सभी दिशाओं में फैलती हैं।” – चाणक्य
“The fragrance of flowers spreads only in the direction of the wind. But the goodness of a person spreads in all directions.” – Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment