टकराव टालिए : डॉ. नीरूबहन अमीन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Takrav Taliye : by Dr. Neerubahan Ameen Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameटकराव टालिए / Takrav Taliye
Author
Category,
Language
Pages 34
Quality Good
Size 446 KB
Download Status Available

टकराव टालिए का संछिप्त विवरण : कोई मनुष्य बहुत बोले, तो उसके कैसे भी बोल से हमें टकराव नहीं होना चाहिए। यही धर्म है। हाँ, बोल कैसे भी हों। बोल की कन्या ऐसी शर्त होती है कि ‘टकराव ही करना है’ ये तो सुबह तक टकराव करें ऐसे लोग है। और अपनी वजह से सामने वाले को अड़चन हो, ऐसा बोलना बड़े से बड़ा गुनाह है। बल्कि किसी ने बोलै…….

Takrav Taliye PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Koi Manushy bahut bole, to usake kaise bhee bol se hamen takarav nahin hona chahiye. Yahi dharm hai. han, bol kaise bhee hon. Bol ki kanya aisee shart hoti hai ki takarav hee karana hai ye to subah tak takarav karen aise log hai. Aur apani vajah se samane vale ko adachan ho, aisa bolana bade se bada gunah hai. Balki kisi ne bolai………..
Short Description of Takrav Taliye PDF Book : If a person speaks too much, then we should not be confronted with his words. This is religion. Yes, whatever the words may be. Speaking girl is such a condition that ‘you have to fight’ And for the reason that the front is obstructed, it is a big crime to say so. Someone said………..
“अपनी खुशियों के प्रत्येक क्षण का आनन्द लें; ये वृद्धावस्था के लिए अच्छा सहारा साबित होते हैं।” क्रिस्टोफर मोर्ले
“Cherish all your happy moments: they make a fine cushion for old age.” Christopher Morley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment