वर्तमान तीर्थकर श्री सीमंधर स्वामी : डॉ. नीरू बहन अमीन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Vartman Tirthankara Shri Seemandhar Swami : by Dr Neeru Bahan Ameen Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

वर्तमान तीर्थकर श्री सीमंधर स्वामी : डॉ. नीरू बहन अमीन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Vartman Tirthankara Shri Seemandhar Swami : by Dr Neeru Bahan Ameen Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वर्तमान तीर्थकर श्री सीमंधर स्वामी / Vartman Tirthankara Shri Seemandhar Swami
Author
Category,
Language
Pages 54
Quality Good
Size 290 KB
Download Status Available

वर्तमान तीर्थकर श्री सीमंधर स्वामी का संछिप्त विवरण : सीमंधर स्वामी की आयु इस समय डेढ़ लाख वर्ष की है। वे ऋषभदेव भगवान जैसे है। ऋषभदेव भगवन पूरे ब्रह्मांड के भगवान कहलाते है। वैसे ये भी पूरे ब्रह्मांड के भगवान कहलाते है। वे अपने यहाँ नहीं, लेकिन दूसरी भूमि पर है। वहां मनुष्य नहीं जा सकता। ज्ञानी खुद की शक्ति वहां भेजते है। पूछकर फिर वापस आती है। वहां स्थूल शरीर से नहीं जा सकते लेकिन………….

Vartman Tirthankara Shri Seemandhar Swami PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Seemandhar Swami kee Aayu is Samay dedh lakh varsh kee hai. Ve Rishabhadev bhagavan jaise hai. Rishabhadev bhagvan poore brahmand ke bhagvan kahalate hai. Vaise ye bhee poore brahmand ke bhagavan kahalate hai. Ve Apane yahan nahin, Lekin Doosari bhoomi par hai. Vahan Manushy nahin ja sakata. Gyani khud kee shakti vahan bhejate hai. Poochhakar phir vapas aatee hai. Vahan sthool shareer se nahin ja sakate lekin………
Short Description of Vartman Tirthankara Shri Seemandhar Swami PDF Book : The age of Seemandhar Swami is currently one and a half million years old. He is like Rishabhdev God. Rishabhdev Bhagavan is called the God of the entire universe. By the way, they are also called the God of the whole universe. He is not here, but on another land. Man cannot go there. The learned send their own power there. She then comes back after asking. You cannot go there with a gross body, but…
“कठिनाईयों का अर्थ आगे बढ़ना है, न कि हतोत्साहित होना। मानवीय भावना का अर्थ द्वन्द्व से और अधिक मजबूत होना होता है।” ‐ विलियम एल्लेरी चैन्निंग
“Difficulties are meant to rouse, not discourage. The human spirit is to grow strong by conflict.” ‐ William Ellery Channing

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment