वातायन : बाबू जैनेंद्र कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Vatayan : by Babu Jainedra Kumar Hindi PDF Book – Granth

वातायन : बाबू जैनेंद्र कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Vatayan : by Babu Jainedra Kumar Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वातायन / Vatayan
Author
Category, , ,
Language
Pages 276
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

वातायन का संछिप्त विवरण : ये कहानियाँ कलानुकमसे इस संग्रह में दी गई है | सब इस या उस पत्रिका में निकल चुकी है | श्री नाथूराम जी प्रेमी इस संग्रह के लिए दो अप्रकाशित रचनाएँ चाहते थे | अंतिम दो ऐसी ही कहानियां है | इनमें से अपने-अपने भाग्य’ के लिए एक साहित्यिक सज्जन का आभार मान लेना जरुरी है | खेद है कि उन्होंने अपना नाम जानने का अवसर नहीं दिया………

Vatayan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ye kahaniyan kalanukamse is sangrah mein di gai hai. Sab is ya us patrika mein nikal chuki hai. Shri nathuram ji premi is sangrah ke lie do aprakashit rachanaen chahte the. Antim do aisi hi kahaniyan hai. Inmen se apne-apne bhagy ke lie ek sahityik sajjan ka aabhar maan lena jaruri hai. Khed hai ki unhonne apna naam janne ka avasar nahin diya…………
Short Description of Vatayan PDF Book : These stories have been given in this collection by Kalanukamse. Everything has gone out of this or that magazine. Mr Nathuram lover wanted two unpublished compositions for this collection. The last two similar stories are. Of these, gratitude is required for a literary gentleman for ‘his own destiny’. Sorry that he did not give an opportunity to know his name…………
“यदि कोई व्यक्ति अपने धन को ज्ञान अर्जित करने में खर्च करता है तो उससे उस ज्ञान को कोई नहीं छीन सकता है।ज्ञान के लिए किए गए निवेश से हमेशा अच्छा प्रतिफल प्राप्त होता है।” ‐ बेंजामिन फ्रेंकलिन
“If a man empties his purse into his head, no man can take it away from him. An investment in knowledge always pays the best interest.” ‐ Benjamin Franklin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment