लोरजा : जैनेंद्र कुमार द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Lorja : by Jainedra Kumar Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameलोरजा  / Lorja
Author
Category, , , ,
Language
Pages 121
Quality Good
Size 11 MB
Download Status Available

लोरजा पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  मंजुलता इन गीतों में प्रगट होकर सामने आई है। मधुर पदों की लड़ियाँ आपको इतनी
मिलेंगी कि शायद मांग से ज्यादा। और उनके लिए, मैं नहीं जानता, कि पाठक क्‍यों और भी उनका कृतज्ञ नहीं
हो सकता। जीवन की तत्पर समीक्षा इन कविताओं का विषय नहीं है। इनमें तो व्यथा का गान है। वह व्यथा
भकक्‍्क की नहीं है, दार्शनिक

Lorja PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Manjulata in Geeton mein pragat hokar samane aayi hai. Madhur padon kee ladiyan Apako itani milengee ki shayad mang se jyada. Aur unake liye, main nahin janata, ki Pathak kyon aur bhee unaka krtagy nahin ho sakata. Jeevan kee tatpar samiksha in kavitaon ka vishay nahin hai. Inamen to vyatha ka gan hai. Vah vyatha bhakk kee nahin hai, darshanik…………

Short Description of Lorja Hindi PDF Book  : Manjulata has appeared in these songs. You will get so many sweet posts battles that maybe more than the demand. And for him, I do not know why the reader could not be more grateful to him. A quick review of life is not the subject of these poems. Among them, there is an anthem of agony. That agony is not of alms, philosopher…….

 

“यदि मुस्कान आपके स्वभाव में नहीं तो दुकानदारी के चक्कर में नहीं पड़े।” ‐ चीनी कहावत
“Do not open a shop unless you like to smile.” ‐ Chinese proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment