विचार के प्रवाह : डॉ. देवराज उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Vichar Ke Pravah : by Dr. Devraj Upadhyay Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameविचार के प्रवाह / Vichar Ke Pravah
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 170
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

विचार के प्रवाह का संछिप्त विवरण : गुप्तजी के व्यक्तित्व , उनकी प्रतिभा एवं उनकी आत्मा की सरलता की छाप हिंदी काव्य के इन पचास वर्षों पर स्पष्ट रूप से अंकित है | गत अर्धशताब्दी की हिंदी काव्य-धारा ने जो भी रूप धारण किया है, जो भी मोड़ लिया है , अथवा लोगों के हृदय में स्फूर्ति-संचार के लिए जितने भी साधनों का प्रयोग किया है ……..

Vichar Ke Pravah PDF Pustak Ka Sankshipt : Guptajee ke vyaktitv , unaki pratibha evan unaki Atma ki saralata ki chhap hindi kavy ke in pachas varshon par spasht roop se ankit hai. Gat Ardhashatabdi kee hindi kavy-dhara ne jo bhi roop dharan kiya hai, jo Bhi mod liya hai , Athava logon ke hrday mein sphoorti-sanchar ke liye jitane bhi Sadhanon ka prayog kiya hai………….
Short Description of Vichar Ke Pravah PDF Book : The secret of Guptaji’s personality, his talent and the simplicity of his soul is clearly marked on these fifty years of Hindi poetry. Whatever the form of Hindi poetry-stream of the past half century, whatever has changed, or whatever instrument has been used for meditation in the hearts of people…………..
“तुच्छ व्यक्तियों या क्षुद्र जिंदगियों जैसी कोई चीज़ जिस तरह से नहीं होती, ठीक वैसे ही तुच्छ काम जैसी भी कोई चीज़ नहीं होती।” ‐ एलेना बोनर, एलोन टुगेदर
“Just as there are no little people or unimportant lives, there is no insignificant work.” ‐ Elena Boner, Alone Together

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment