विश्व परिचय : रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Vishva Parichaya : by Ravindra Nath Thakur Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameविश्व परिचय / Vishva Parichaya
Author
Category,
Language
Pages 129
Quality Good
Size 6.8 MB

पुस्तक का विवरण : मेरे जैसा अनाड़ी जो इस अभाव को थोड़ा-सा भी दूर करने के प्रयत्न में लगा है, इससे वे ही लोग सबसे अधिक कौतूहल अनुभव करेंगे जो मेरे ही जैसे अनाड़ियों के दल में हैं । किन्तु मुझे भी कुछ थोड़ा कहना है । बच्चे के प्रति माता का औत्सुक्य तो रहता है लेकिन डाक्टर की तरह उसे विद्या नहीं आती। विद्या तो वह उधार ले सकती है पर उत्सुकता उधार नहीं ली………

Pustak Ka Vivaran : Mere Jaisa Anadi jo is abhav ko thoda-sa bhi door karne ke prayatn mein laga hai, isase ve hi log sabase adhik kautoohal anubhav karenge jo mere hi jaise anadiyon ke dal mein hain. Kintu mujhe bhi kuchh thoda kahana hai. Bachche ke prati mata ka autsuky to rahata hai lekin doctor ki tarah use vidya nahin aati. Vidya to vah udhar le sakti hai par utsukata udhar nahin li………

Description about eBook : A clumsy like me, who is trying to remove this deficiency even a little, only those people who are in the group of clumsy like me, will feel the most curiosity. But I also have to say something a little. The mother has an interest in the child, but she does not have knowledge like a doctor. Vidya can borrow it but eagerness cannot borrow it…….

“ऐसा व्यक्ति जो एक घंटे का समय बरबाद करता है, उसने जीवन के मूल्य को समझा ही नहीं है।” -चार्ल्स डारविन
“A man who dares to waste one hour of time has not discovered the value of life.” Charles Darwin – Charles Darwin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment