आतश की शायरी : द्रुपद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Aatash Ki Shayari : by Drupad Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

आतश की शायरी : द्रुपद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Aatash Ki Shayari : by Drupad Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आतश की शायरी / Aatash Ki Shayari
Author
Category, , ,
Language
Pages 170
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : स्वभाव से ही आतश आन-बान के आदमी थे खानहवान में सभी सिपाही थे और इसीलिये कभी किसी के सामने सिर झुकाना या हाथ पसारना अपनी प्रतिष्ठा के प्रतिकल सममते थे। मनुष्य के नैतिक उत्थान पर बहुत जोर देते थे और स्वयं फकीरों की तरह जीवन व्यतीत करते थे। यही बातें उनकी……

Pustak Ka Vivaran : Svabhav se hi aatash aan-ban ke admi the khanhavan mein sabhi sipahi the aur isiliye kabhi kisi ke samane sir jhukana ya hath pasarana apani pratishtha ke pratikal samamate the. Manushy ke naitik utthan par bahut jor dete the aur svayan phakeeron kee tarah jeevan vyateet karte the. Yahi baten unki……

Description about eBook : By nature, Aatsh was a man of pride, all the soldiers were in Khanhawan and that is why sometimes bowing his head or extending his hand in front of anyone was against his prestige. He laid great emphasis on the moral upliftment of man and used to lead a life like a mystic himself. That’s their thing………

“चोट मारने के लिए लोहे के गर्म होने की प्रतीक्षा न करें, लेकिन इसे चोट मार मार कर गर्म करें।” ‐ विलियम बी. स्प्रेग
“Do not wait to strike till the iron is hot; but make it hot by striking.” ‐ William B. Sprague

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment