नजीर की शायरी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Nazeer Ki Shayari : Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

नजीर की शायरी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Nazeer Ki Shayari : Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name नजीर की शायरी / Nazeer Ki Shayari
Author
Category,
Language
Pages 103
Quality Good
Size 38 MB
Download Status Available

नजीर की शायरी पुस्तक का कुछ अंशहैरां हुं यारो देखो तो यह क्या सुआंग है यां आदमी ही चोर है और आप ही थांग है है छीना झपटी और कहीं बांग तांग है देखा तो आदमी ही यहां मिस्ले-रांग है फौलाद से गढ़ा है सो है वह भी आदमी मरने में आदमी ही कफन करते हैं तैयार नहला-धुला उठाते हैं कांधे पे कर सवार कलमा भी पढ़ते जाते हैं रोते हैं जार-जार सब आदमी ही करते हैं मुर्दे के कारोबार और वह जो मर गया है सो वह आदमी……..

Nazeer Ki Shayari PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Hairan hun yaro dekho to yah kya suang hai yan aadmi hi chor hai aur aap hi thang hai hai chheena jhapati aur kahin bang tang hai dekha to aadmi hi yahan misle-rang hai phaulad se gadha hai so hai vah bhi aadmi marane mein aadmi hi kaphan karte hain taiyar nahala-dhula uthate hain kandhe pe kar savar kalama bhi padhate jate hain rote hain jar-jar sab aadmi hi karate hain murde ke karobar aur vah jo mar gaya hai so vah aadmi……..
Short Passage of Nazeer Ki Shayari Hindi PDF Book : Surprised friends, look what is this, or man is a thief, and you are the only thing, snatched, snatched and banged somewhere. If you see, here only the man is wrong. Let’s get ready, take a bath, carry a tax on the shoulder, keep reading the kalma, keep crying, all men do the business of the dead, and the one who is dead is that man……….
“ईमानदारी से बड़ी कोई विरासत नहीं है।” विलियम शेक्सपियर
“No legacy is as rich as honesty.” William Shakespeare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment