सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

अभिशप्त / Abhishapt

अभिशप्त : यशपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Abhishapt : by Yashpal Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name अभिशप्त / Abhishapt
Author
Category, ,
Language
Pages 142
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : दीमा सारी रात रोती रही | आंद्रकेश उसे गोद में लिए बैठा रहा | दीमा की विहलता से उसका हृदय पिघल , कंठ रुंध गया | एक भी शब्द वह बोल न सका | ओठ दबा अपने को वश में रखने का प्रयत्न उसने किया | फिर भी गुलाबी हो गये नेत्रों से दो चार बूंद आसूं टपक कर बिगल मूछों की नोक………..

Pustak Ka Vivaran : Deema saree Rat roti Rahi. Andrakesh use god mein liye baitha raha. Deema ki vihlata se usaka hrday pighal , kanth rundh gaya. Ek bhi shabd vah bol na saka. Oth daba apane ko vash mein rakhane ka prayatn usane kiya. Phir bhi Gulabi ho gaye netron se do char bund Aasoon tapak kar bigal moochhon ki nok………….
Description about eBook : Dida crying all night IndraKesh sat in her lap. Deepa’s heart melted away, her neck melted. He could not say a single word. He tried to keep his head under control. Nevertheless, the tip of the bishop mustache by letting two or four drops of the pink eyes…………..
“ऐसा व्यक्ति जो अनुशासन के बिना जीवन जीता है वह सम्मान रहित मृत्यु मरता है।” – आईसलैण्ड की कहावत
“He who lives without discipline dies without honor.” -Icelandic Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment