आश्रम की बहनों को : आचार्य काका कालेलकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Ashram Ki Bahano Ko : by Acharya Kaka Kalelkar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

आश्रम की बहनों को : आचार्य काका कालेलकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Ashram Ki Bahano Ko : by Acharya Kaka Kalelkar Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name आश्रम की बहनों को / Ashram Ki Bahano Ko
Author
Category, ,
Language
Pages 134
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : आश्रम-जीवन के बारे में चचौ करते हुए एक बार मैंने पू. बापूजी से कहा था कि “आश्रम में जितना पुरुष आये है, वे सब आपकी प्रवृत्ति से आकर्षित होकर आये हैं | राष्ट्रसेवा तो सबका आदर्श है ही; उनमें कुछ का आकर्षण राजनैतिक स्वराज्य के लिए है, कुछ लोग यह देखकर आयें है की हिन्दू धर्म की पुनर्जाग्रति आपके दवारा होगी, कुछ का इतना ही आकर्षण है की…….

Pustak Ka Vivaran :Ashram- Jivan ke bare mein Charcha karate hue Ek bar maine Mr. Bapuji se kaha tha ki Ashram mein jitane Purush Aye hai, Ve sab Apaki Pravrtti se Akarshit hokar Aye hain. Rashtraseva to Sabka Adarsh hai hi; unamen kuchh ka Akarshan Rajnaitik Svarajy ke liye hai, kuchh log yah dekhakar Ayen hai ki hindu dharm ki Punarjagrati Apake dvara hogi, kuchh ka itana hi Akarshan hai ki………….

Description about eBook : Discussing about the ashram-life, once I met Poo Bapuji had said that “As many as men have come in the ashram, they are all drawn from your instincts. National Service is the ideal of all; Some of them are for political self-rule, some people have come to see that the revival of Hindu religion will be yours, there is so much attraction of some…………..

“कोई आप पर ध्यान दे वह उदारता का सबसे दुर्लभ और सबसे शुद्ध रूप है।” सिमोन वैल
“Attention is the rarest and purest form of generosity.” Simone Weil

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment