बाला जोगन : रमणलाल वसन्तलाल देसाई द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Bala Jogan : by Ramanlal Vasantlal Desai Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameबाला जोगन / Bala Jogan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 382
Quality Good
Size 14.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मीरा ने चित्तौड़ का त्याग कर ब्रज में आवास किया, यह भी स्पष्ट रूप से विदित होता है। उसके ऊपर अत्याचार हुए, और उसको समझाने के भी प्रयत्न हुए; परन्तु ये अत्याचार किसने किये और समझाने-बुझाने का प्रयत्न किसने किया, इन विषयों पर मतभेद बना हुआ है। यह संभवित है कि अत्याचार के गम के समय में हुए हों, और मीरा को मनाने का प्रयत्न उदयसिह ने किया हो । कितने विद्वानों की तो यह भी……….

Pustak Ka Vivaran : Meera ne Chittor ka tyag kar braj mein Avas kiya, yah bhi spasht roop se vidit hota hai. Uske oopar atyachar huye, aur usako samajhane ke bhi prayatn huye; parantu ye atyachar kisane kiye aur samjhane-bujhane ka prayatn kisane kiya, in vishayon par matbhed bana huya hai. Yah sambhavit hai ki atyachar ke prasang vikramasinh ke samay mein huye hon, aur meera ko manane ka prayatn udayasih ne kiya ho. Kitane vidvanon ki to yah bhi………

Description about eBook : Meera abandoned Chittor and resided in Braj, it is also clearly known. He was tortured and tried to convince him; But who committed these atrocities and who tried to persuade, there remains a difference of opinion on these topics. It is possible that the incidents of atrocities took place during the time of Vikram Singh, and Uday Singh tried to persuade Meera. How many scholars also ………

“हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं।” क्रिस्टोफर रीव
“So many of our dreams at first seem impossible, then seem improbable, and then, when we summon the will, they soon seem inevitable.” Christopher Reeve

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment