चाय के गुण-दोष : डा० गंगाप्रसाद गौड़ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – स्वास्थ्य | Chai Ke Gun Dosh : by Dr. Gangaprasad Goud Hindi PDF Book – Health (Swasthya)

चाय के गुण-दोष : डा० गंगाप्रसाद गौड़ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - स्वास्थ्य | Chai Ke Gun Dosh : by Dr. Gangaprasad Goud Hindi PDF Book - Health (Swasthya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चाय के गुण-दोष / Chai Ke Gun Dosh
Author
Category,
Language
Pages 37
Quality Good
Size 21 MB
Download Status Available

चाय के गुण-दोष का संछिप्त विवरण : चाय, जिसने आज संसार में अपना संहारक प्रभुत्व जमा लिया है और लगभग प्रत्येक मनुष्य को अपने मारक चंगुल में बेतरह दबोच रखा है, का जन्म-स्थान चीन देश है, जहाँ से इसका आगमन और प्रसार उत्तर-पुर्वीय भारत में हुआ | आयुर्वेद के किसी ग्रन्थ में चाय का उल्लेख नहीं मिलता, जो इसके विदेशी होने का एक पुष्ट प्रमाण है………

Chai Ke Gun Dosh PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Chay, jisne aaj sansar mein apna sanharak prabhutv jama liya hai aur lagbhag pratyek manushy ko apne marak changul mein betarah daboch rakha hai, ka Janm-sthaan Chin desh hai, jahan se iska aagaman aur prasar uttar-purviy bharat mein hua. Aayurved ke kisi granth mein chay ka ullekh nahin milta, jo iske videshi hone ka ek pusht praman hai
Short Description of Chai Ke Gun Dosh PDF Book : The tea, which has taken its catastrophic dominance in the world today, and almost every human being is stunned in its mortal clutches, the birthplace of China is the country from which its arrival and spread took place in north-eastern India. Tea is not mentioned in any text of Ayurveda, which is a surefire proof of its foreign status………………
“हम वस्तुओं को जैसी हैं वैसे नहीं देखते हैं। हम उन्हें वैसे देखते हैं जैसे हम हैं।” ‐ टालमड
“We do not see things they are. We see them as we are.” ‐ Talmud

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment