सभी मित्र, हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे और नाम जप की शक्ति को अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये
वीडियो देखें

हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

चिन्ता / Chinta

चिन्ता : अज्ञेय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Chinta : by Agyeya Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चिन्ता / Chinta
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 182
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

सभी मित्र हस्तमैथुन के ऊपर इस जरूरी विडियो को देखे, ज्यादा से ज्यादा ग्रुप में शेयर करें| भगवान नाम जप की शक्ति को पहचान कर उसे अपने जीवन का जरुरी हिस्सा बनाये|

पुस्तक का विवरण : अपनी तीन वर्ष पुरानी रचना पढ़कर कैसा लगता है, इस प्रश्न का उत्तर पाठक को न देना ठीक होगा। इस तरह की जानकारी को कवि की दीक्षा का ही अंग समझना चाहिए। दूसरा दीक्षाप्राप्त व्यक्ति वह जानकारी स्वयं प्राप्त कर लेगा। इतना कह सकता हूँ कि इस पुस्तक का जो विषय है-मोटे तौर पर जिस प्रेम वह लें और जिस ममेतर के प्रति समानी…..

Pustak Ka Vivaran : Apani Teen varsh Purani Rachana Padhakar kaisa lagata hai, Is prashn ka uttar pathak ko na dena theek hoga. Is Tarah kee Janakari ko kavi kee deeksha ka hee ang samajhana chahiye. Doosara Deekshaprapt vyakti vah jankari svayan prapt kar lega. Itana kah sakata hoon ki is Pustak ka jo vishay hai-mote taur par jis prem vah len aur jis Mametar ke prati samani……..

Description about eBook : How does it feel to read your three-year-old composition, it would be better to not answer this question to the reader. Such information should be considered as part of the initiation of the poet. The second initiated person will get that information himself. I can say this much that the theme of this book is – the love that he should take and the kind of friendship with which…………

“हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं।”
“So many of our dreams at first seem impossible, then seem improbable, and then, when we summon the will, they soon seem inevitable.” ‐ Christopher Reeve

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment