चिंतक की लाचारी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Chintak Ki Lachari : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

चिंतक की लाचारी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Chintak Ki Lachari : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name चिंतक की लाचारी / Chintak Ki Lachari
Author
Category, ,
Language
Pages 209
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

चिंतक की लाचारी का संछिप्त विवरण : सज्जनों भारतीय उपवन में कितने ही फूल और फल ऐसे है जो इस देश की उपज नहीं उनका आगमन अन्य देशों से इस देश में हुआ है। समाचार-पत्रों और समाचार-पत्रों का व्यवसाय भी इसी बात का एक उदाहरण है। इसीलिए समाचार-पत्रों से सम्बन्ध रखने वाला प्रशस्त ज्ञान भी हमें उन्हीं देशों की……….

Chintak Ki Lachari PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sajjanon Bharatiya Upvan mein kitne hi phool aur phal aise hai jo is desh ki upaj nahin unka Aagman any deshon se is desh mein huya hai. Samachar-Patron aur Samachar-patron ka vyavasay bhi isi bat ka ek udaharan hai. Isiliye Samachar-Patron se Sambandh rakhane vala prashast gyan bhi hamen unheen deshon ki…….
Short Description of Chintak Ki Lachari PDF Book : Gentlemen, there are so many flowers and fruits in the Indian garden, which are not the produce of this country, they have come to this country from other countries. Newspapers and newspaper business is also an example of this. That is why the vast knowledge related to newspapers also gives us the knowledge of those countries……..
“मेरे अनुभव के अनुसार, केवल एक ही प्रेरणा होती है और वह है इच्छा।” ‐ जेन स्माईली
“In my experience, there is only one motivation, and that is desire.” ‐ Jane Smiley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment