दादा की नज़र से लोकनीति : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Dada Ki Nazar Se Lokniti : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameदादा की नज़र से लोकनीति / Dada Ki Nazar Se Lokniti
Category, , , ,
Language
Pages 86
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

दादा की नज़र से लोकनीति पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : राजनीति और लोकनीति में अंतर है। राजनीति वह नीति है. जिसके अनुसार राजाओं को और राज्यकर्ताओं को अपने व्यवहार और आचरण का नियमन करना चाहिए। लोकनीति यह नीति है, जिसके अनुसार हर मनुष्य को समाज में अपने जीवन का नियमन करना चाहिए, नियंत्रण करना चाहिए। में अपना नियंत्रण किसी दूसरी सत्ता को करना चाहिए। दूसरी सत्ता जब नियंत्रण किसी दूसरी सत्ता………

Dada Ki Nazar Se Lokniti PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Rajneeti aur Lokneeti mein antar hai. Rajneeti vah Neeti hai. Jisake Anusar Rajaon ko aur Rajyakartaon ko apane vyavahar aur Aacharan ka Niyaman karana chahiye. Lokneeti yah Neeti hai, jisake Anusar har Manushy ko samaj mein apane jeevan ka Niyaman karana chahiye, Niyantran karana chahiye. Mein Apana Niyantran kisi doosari satta ko karana chahiye. Doosari Satta jab Niyantran kisi doosari Satta……….

Short Description of Dada Ki Nazar Se Lokniti Hindi PDF Book : There is a difference between politics and public policy. Politics is that policy. According to which kings and kingdoms should regulate their behavior and conduct. Public policy is this policy, according to which every human being should regulate, control his life in society. I should control some other entity. Second power when controlling any second power ……….

 

“परमात्मा में विश्वास तब तक नहीं हो सकता जब तक स्वयं में विश्वास न हो।” स्वामी विवेकानंद
“You cannot believe in God until you believe in yourself.” Swami Vivekananda

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment