फैसिज्म की आत्मा : टी. एन. कुचुन्नी विमल कैरलीय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Fascism Ki Atma : by T. N. Kuchunni Vimal Caroliya Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameफैसिज्म की आत्मा / Fascism Ki Atma
Author
Category, ,
Language
Pages 61
Quality Good
Size 22 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : विश्व-क्रान्ति के इस युग में हमें इस बातों पर विचार करने की आवश्यकता है कि, यह संसार किधर जा रहा है। इस मानव – समाज में क्यों इतना हा-हा-कार मचा हुआ है ? और जनता में क्यों इतनी भयंकर दरिद्रता और बेकारी फैली हुई है ? यह तो सबको मानना ही पड़ेगा कि, हजारों वर्षों से समाज के कुछ वर्ग दबे, दलित, शोषित तथा जीवन के सभी तरह के सुखों से……

Pustak Ka Vivaran : Vishv-Kranti ke is yug mein hamen is baton par vichar karane ki Aavashyakata hai ki, yah sansar kidhar ja raha hai. Is Manav – Samaj mein kyon itana ha-ha-kar macha huya hai ? Aur janata mein kyon itani bhayankar daridrata aur bekari phaili huyi hai ? Yah to sabako manana hi padega ki, hajaron varshon se samaj ke kuchh varg dabe, dalit, shoshit tatha jeevan ke sabhi tarah ke sukhon se…….

Description about eBook : In this era of world revolution, we need to think about where this world is going. Why is there so much havoc in this human society? And why is there so much fierce poverty and unemployment in the public? Everyone has to agree that, for thousands of years, some sections of society have been buried, dalit, exploited and from all kinds of happiness in life….

“आप आराम की ज़िंदगी चाहते हैं तो आपको कुछ परेशानी तो उठानी ही होगी।” एबिगैल वैन ब्यूरेन
“If you want a place in the sun, you’ve got to put up with a few blisters.” Abigail Van Buren

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment