घटना का हलुवा : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Ghatna Ka Haluva : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Nameघटना का हलुवा / Ghatna Ka Haluva
Author
Category, , , ,
Language
Pages 2
Quality Good
Size 300 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : हुलिया बदला हुआ है। आदमी सोचने लगा कि बुढ़िया को लेकर आया होता तो उसकी मरम्मत भी करवा लेता। खैर फिर कभी, भी तो वह अपनी मरम्मत करवा ले। वह लिफ्ट की तरफ लपका। फिर दुत्कारा गया। अंत में वह निराश होकर गाँव लौटने लगा। कैश-काउंटर से बच्चा बाहर आया यह कहने की उसके पास एक भी पैसा नहीं है। लिफ्ट से बच्चा आया………

Pustak Ka Vivaran : Huliya Badla huya hai. Aadmi sochane laga ki budhiya ko lekar aaya hota to uski Marammat bhi karava leta. Khair phir kabhi, bhi to vah Apni Marammat karava le. Vah lift ki taraph lapka. Phir Dutkara gaya. Ant mein vah Nirash hokar Ganv lautane laga. Kaish-kauntar se bachcha bahar aaya yah kahane ki uske pas ek bhi Paisa nahin hai. Lift se bachcha aaya…….

Description about eBook : Appearance has changed. The man started thinking that if he had brought the old lady, he would have got her repaired too. Well sometime again, he should get himself repaired. He ran towards the lift. Then it went away. In the end he started returning to the village disappointed. The child came out from the cash-counter saying that he did not have a single penny. The child came from the lift……..

“आप इसे मोड़ और मरोड़ सकते हैं। आप इसका बुरा और गलत प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन ईश्वर भी सत्य को बदल नहीं सकते हैं।” माइकल लेवी
“You can bend it and twist it… You can misuse and abuse it… But even God cannot change the Truth.” Micheal Levy

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment