गृहोपयोगी-विज्ञान : डा० गौरी गांगुली द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – विज्ञान | Grahopyogi Vigyan : by Dr. Goury Ganguli Hindi PDF Book – Science (Vigyan)

गृहोपयोगी-विज्ञान : डा० गौरी गांगुली द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - विज्ञान | Grahopyogi Vigyan : by Dr. Goury Ganguli Hindi PDF Book - Science (Vigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गृहोपयोगी-विज्ञान / Grahopyogi Vigyan
Author
Category,
Language
Pages 545
Quality Good
Size 19 MB
Download Status Available

गृहोपयोगी-विज्ञान का संछिप्त विवरण : शिक्षा-सम्बन्धी राष्ट्रिय नीति संकल्प के अनुपालन के रूप में विश्व विद्यालो में उच्चतम स्थरों तक भारतीय भाषाओ के माध्यम से शिक्षा के लिए पाठ्य सामग्री सुलभ कराने के उद्देश्य से स्थित सरकार ने इन भाषाओं में विभिन्न विषयों के मानक ग्रंधो के निर्माण, अनुवाद और प्रकाशन की योजना परिचालित की है | इस योजना के अंतर्गत अंग्रेजी तथा अन्य भाषाओं के प्रमाणिक ग्रंथो का अनुवाद किया जा रहा है…….

Grahopyogi Vigyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shiksha-sambandhi rashtriy niti sankalp ke anupalan ke rup mein vishv vidyalo mein uchchatam stharon tak bharatiy bhashao ke madhyam se shiksha ke lie pathy samagri sulabh karane ke uddeshy se sthit sarkar ne in bhashaon mein vibhinn vishayon ke manak grantho ke nirman, anuvad aur prakashan ki yojana parichalit ki hai. Is yojna ke antargat angreji tatha any bhashaon ke pramanik grantho ka anuvad kiya ja raha hai…………
Short Description of Grahopyogi Vigyan PDF Book : In pursuance of education-related national policy resolution, the government, with the aim of facilitating the textual content for education through Indian languages till the highest level in world schools, has created, translated and published standard texts of various subjects in these languages. The scheme is circulated. Translated texts of English and other languages are being translated under this scheme…………
“मुझे ऐसे मित्र की आवश्यकता नहीं जो मेरे साथ-साथ बदले और मेरी हां में हां भरे; ऐसा तो मेरी परछाई कहीं बेहतर कर लेती है।” ‐ प्लूटार्क
“I don’t need a friend who changes when I change and who nods when I nod; my shadow does that much better.” ‐ Plutarch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment