गुल से लिपटी हुई तितली : कैफ भोपाली द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Gul Se Lipati Huyi Titali : by Kaif Bhopali Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameगुल से लिपटी हुई तितली / Gul Se Lipati Huyi Titali
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 120
Quality Good
Size 868 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : देवनागरी लिपि मे उर्दू साहित्य के प्रकाशन की परम्परा नई नहीं है। इस सिलसिले की कड़ियाँ हमे काफी पीछे तक दिखाई देती हैं और यह सिलसिला आज भी वर्तमान है। बल्कि इसका दायरा और भी व्यापक होता जा रहा है। क्योकि आज हिन्दी का रुचि सम्पन्न पाठक अपने आपको उर्दू साहित्य के काफ़ी करीब महसूस कर रहा है………..

Pustak Ka Vivaran : Devnagari Lipi me Urdu Sahity ke prakashan ki Parampara nayi nahin hai. Is Silasile ki Kadiyan hame kaphi peechhe tak dikhai deti hain aur yah silasila aaj bhi vartaman hai. Balki isaka dayara aur bhi vyapak hota ja raha hai. Kyoki aaj hindi ka ruchi sampann pathak apane aapako urdu sahity ke kafi kareeb mahsoos kar raha hai……….

Description about eBook : The tradition of publishing Urdu literature in Devanagari script is not new. Links of this sequence are visible to us far back and this sequence is still present today. Rather, its scope is becoming even wider. Because today the interested reader of Hindi is feeling very close to Urdu literature……….

“हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं।” क्रिस्टोफर रीव
“So many of our dreams at first seem impossible, then seem improbable, and then, when we summon the will, they soon seem inevitable.” Christopher Reeve

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment