हम चाकर रघुनाथ के : विमल मित्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Ham Chakar Raghunath Ke : by Vimal Mitra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameहम चाकर रघुनाथ के / Ham Chakar Raghunath Ke
Author
Category, , , ,
Language
Pages 110
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : हम लोग कहते, “हमारी तो शाम होते ही पलक कपकने लगती हैं। राजू कहता, “मेरी माँ ने कहा है कि जो मन लगाकर पढ़ता है, बड़ा होने पर वह बहुत तरक्की करता है। उसने यह भी कहा है कि मास्टर साहब की बात हमेशा मानना । मास्टर साहब गुरुजन होते हैं। गुरुजनों की बात माननी चाहिए। ऐसा करने पर भगवान भी उस पर कृपा करता है…..

Pustak Ka Vivaran : Ham log kahate, “Hamari to sham hote hi Palaken kapakane lagati hain. Raju kahata, “Meri man ne kaha hai ki jo man lagakar padhata hai, bada hone par vah bahut tarakki karata hai. Usane yah bhi kaha hai ki Master sahab ki bat hamesha manana . master sahab Gurujan hote hain. Gurujanon ki bat manani chahiye. Aisa karane par bhagvan bhi us par krpa karata hai………

Description about eBook : We used to say, “As soon as we are in the evening, the eyelids start to fade. Raju would say, “My mother has said that one who studies diligently, he grows very much when he grows up.” He has also said that always obey the Master. Master sir is a guru. Gurus should be listened to. By doing this, God also blesses him ……

“अपनी नियति की कमान अपने हाथ में लें, अन्यथा कोई ओर ले लेगा।” ‐ जैक वैल्च
“Control your own destiny or someone else will.” ‐ Jack Welch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment