हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

हमारे अमर नायक / Hamare Amar Nayak

हमारे अमर नायक : प्रेमनारायण टंडन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Hamare Amar Nayak : by Premnarayan Tandan Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हमारे अमर नायक / Hamare Amar Nayak
Author
Category
Language
Pages 89
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

हमारे अमर नायक पुस्तक का कुछ अंशराजा दशरथ के पुत्रों के जन्म के पहले एक कन्या उत्पन्न हुई थी। उसका विवाह श्रृंगी ऋषि के साथ हुआ था। एक बार अनहोने महा-यज्ञ करना आरंभ किया। उस समय अयोध्या में महाराजा रामचंद्र राज्य कर रहे थे, और महारानी सीता गर्भवती थी। इसी से यज्ञ का निमंत्रन आने पर तीनो विधवा महारानी गुरु वशिष्ठ के साथ वहां चली गई……..

Hamare Amar Nayak PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Raja Dashrath ke putro ke janm ke pahle ek kanya utpann hui thi. Uska vivah shrngi rshi ke sath hua tha. Ek baar unhone maha-yagy karna arambh kiya. Us samay ayodhya mein maharaja Ramachandr rajy kar rahe the, aur maharani Sita garbhavati thi. Isi se yagy ka nimantran aane par tino vidhava maharaniyan guru vashishth ke sath vahan chali gai…………
Short Passage of Hamare Amar Nayak Hindi PDF Book : A daughter was born before the birth of the son of King Dasharath. She was married to Shrungi Rishi. Once they started doing Maha-Yajna. At that time, Maharaja Ramchandra was ruling in Ayodhya, and Empress Sita was pregnant. With this, on the invitation of Yagya, the three widows went there with Guru Vashishta……………
“सफल विवाह वह नहीं है जिसमें ‘सर्वगुण सम्पन्न जोड़ा’ विवाहसूत्र में बंधता है। सफल विवाह वह है जिसमें पति-पत्नी एक दूसरे के मतभेदों में खुशी ढूंढ लेते हैं।” ‐ डेव मेयूरर
“A great marriage is not when the ‘perfect couple’ comes together. It is when an imperfect couple learns to enjoy their differences.” ‐ Dave Meurer

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment