हिन्दुस्तानी गजलें : कमलेश्वर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Hindustani Ghajalen : by Kamaleshwar Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

हिन्दुस्तानी गजलें : कमलेश्वर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Hindustani Ghajalen : by Kamaleshwar Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name हिन्दुस्तानी गजलें / Hindustani Ghajalen
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 190
Quality Good
Size 11.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : तब भी इस कथन को समझने के लिए इतिहास को तकलीफ़ देने की ज़रूरत नहीं पड़ती। ग़ज़ल एकमात्र ऐसी विधा है जो किसी ख़ास भाषा के बन्धन में बँधने से इनकार करती है। इतिहास को ग़ज़ल की ज़रूरत है, ग़ज़ल को इतिहास की नहीं ! अरबी-फारसी से लेकर उर्दू और हिन्दी तक इसने अब तक जो सदियों का सफ़र तय किया है वह इंसानी सफ़र की सोच…….

Pustak Ka Vivaran : Tab Bhi is Kathan ko Samajhane ke liye Itihas ko takleef dene ki Zaroorat nahin padti. Ghazal Ekmatra aise vidha hai jo kisi khas bhasha ke bandhan mein bandhane se inkar karti hai. Itihas ko ghazal ki Zaroorat hai, gazal ko itihas ki nahin ! Arbi-Farasi se lekar urdoo aur hindi tak isane ab tak jo sadiyon ka safar tay kiya hai vah insani safar ki soch……..

Description about eBook : Even then one does not need to bother with history to understand this statement. Ghazal is the only genre that refuses to be bound by any particular language. History needs Ghazals, Ghazals don’t need History! From Arabic-Persian to Urdu and Hindi, the journey of centuries it has traveled so far is the thinking of human journey……..

“हम हमारे जीवन के हर दिन अपने बच्चों की यादों के पिटारे में धरोहर सौंपते हैं।” चार्ल्स आर स्वीण्डोल्ल
“Each day of our lives we make deposits in the memory banks of our children.” Charles R. Swindoll

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment