जमनालाल बजाज की डायरी : काकासाहेब कालेलकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Jamnalal Bajaj Ki Diary : by Kakasaheb Kalelkar Hindi PDF Book

Book Nameजमनालाल बजाज की डायरी / Jamnalal Bajaj Ki Diary
Author
Category, ,
Language
Pages 305
Quality Good
Size 33 MB
Download Status Available

जमनालाल बजाज की डायरी का संछिप्त विवरण : जमनालाल बजाज एक भारतीय उद्योगपति, एक परोपकारी और भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे। वह एक करीबी सहयोगी और महात्मा गांधी का अनुयायी भी थे। गांधीजी ने उन्हें अपने बेटे के रूप में स्वीकार किया है। प्रारंभिक वर्ष 1898 में जब जमनालाल बजाज का जन्म एक गरीब मारवाड़ी परिवार में हुआ था………..

Jamnalal Bajaj Ki Diary PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jamanalal bajaj ek bharatiya udyogapati, ek paropakari aur bharatiya svatantrata senani the. Vah ek karibi sahayogi aur Mahatma Gandhi ka anuyayi bhi the. Gandhi ji ne unhen apane bete ke roop mein svikar kiya hai. Prarambhik varsh 1898 mein jab jamanalal bajaj ka janm ek gareeb Maravadi parivar mein huya tha………..
Short Description of Jamnalal Bajaj Ki Diary PDF Book : Jamnalal Bajaj was an Indian industrialist, a philanthropist, and Indian independence fighter. He was also a close associate and follower of Mahatma Gandhi. Gandhi is known to have adopted him as his son.Early years In 1898, when Jamnalal Bajaj was born into a poor Marwari family……..
“बंदरगाह में खड़ा जलयान सुरक्षित होता है। जलयान वहां खड़े रहने के लिए नहीं बने होते हैं।” ‐ थामस एक्किनास
“A ship in harbor is safe . . . but that is not what ships are for.” ‐ Thomas Aquinas

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment