कहें केदार खरी-खरी : केदारनाथ अग्रवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Kahen Kedar Khari – Khari : by Kedar Nath Agrawal Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

कहें केदार खरी-खरी : केदारनाथ अग्रवाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Kahen Kedar Khari - Khari : by Kedar Nath Agrawal Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कहें केदार खरी-खरी / Kahen Kedar Khari – Khari
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 202
Quality Good
Size 5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस संकलन का प्रकाशन ‘साहित्य भंडार’ के प्रथम संस्करण के रूप में संपन्न हो रहा है। केदारजी के उपन्यास ‘पतिया’ को छोड़कर, उनके शेष समस्त लेखन को प्रकाशित करने का गौरव भी ‘साहित्य भंडार’ को प्राप्त है। केदारनाथ अग्रवाल रचनावली (सं० डॉ. अशोक त्रिपाठी) का प्रकाशन भी ‘साहित्य भंडार’ कर रहा है। एक तरह से केदार-साहित्य का प्रकाशक होने का जो……….

Pustak Ka Vivaran : Is Sankalan ka prakashan sahity bhandar ke pratham sanskaran ke roop mein sampann ho raha hai. Kedarajee ke upanyas patiya ko chhodakar, unake shesh samast lekhan ko prakashit karane ka gaurav bhee sahity bhandaar ko prapt hai. kedaranath agrawal rachanavali (san0 do. ashok tripathi) ka prakashan bhee sahity bhandar kar raha hai. Ek tarah se kedar-sahity ka prakashak hone ka jo…………

Description about eBook : The publication of this compilation is being concluded as the first edition of ‘Sahitya Bhandar’. Except for Kedarji’s novel ‘Patiya’, ‘Sahitya Bhandar’ also has the distinction of publishing the rest of his writings. Kedarnath Agrawal Rachnavali (No. Dr. Ashok Tripathi) is also publishing ‘Sahitya Bhandar’. Kind of being the publisher of Kedar literature………….

“किसी व्यक्ति के पास जो वह करता है उसके पीछे दो कारण होते हैं – एक अच्छा और एक सच्चा।” जे पी मॉर्गन
“A man always has two reasons for the thing he does – a good one and a real one.” J P Morgan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment