काला पुरोहित : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Kala Purohit : Hindi PDF Book – Literature ( Sahitya )

काला पुरोहित : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Kala Purohit : Hindi PDF Book - Literature ( Sahitya )
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name काला पुरोहित / Kala Purohit
Author
Category, , ,
Language
Pages 118
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

काला पुरोहित पुस्तक का कुछ अंश : जीवन की इनी-गिनी घड़ियों में सब कुछ भूलकर, शराब पीना और मस्त रहना, यही उसने अपना सिद्धांत बना रखा था | अपने स्वास्थ्य की ओर उसने कभी भी विशेष ध्यान नहीं दिया | हाँ, एक दिन शराब के झोंक में उसने अपने एक परिचित डाक्टर से पूछा | डॉक्टर ने उसे आदेश दिया……

Kala Purohit PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Jeevan ki ini-gini ghadiyon mein sab kuchh bhulkar, sharab pina aur mast rahna, yahi usne apna siddhant bana rakha tha. Apne swasthy ki or usne kabhi bhi vishesh dhyan nahin diya. Haan, ek din sharab ke jhonk mein usne apne ek parichit doctor se puchha. Doctor ne use aadesh diya…………
Short Passage of Kala Purohit Hindi PDF Book : It was his own theory that he forgot everything in life, drinking alcohol, and living in the ini-guinea clocks of life. He never paid special attention towards his health. Yes, one day he asked one of his familiar doctors in the siesta of liquor. Doctor ordered him………….
“मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है।” ‐ दलाई लामा
“This is my simple religion. There is no need for temples; no need for complicated philosophy. Our own brain, our own heart is our temple; the philosophy is kindness.” ‐ Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment