कोई पत्थर से : के० पी० सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Koi Patthar Se : by K.P. Saksena Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

कोई पत्थर से : के० पी० सक्सेना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आत्मकथा | Koi Patthar Se : by K.P. Saksena Hindi PDF Book - Autobiography (Atmakatha)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कोई पत्थर से / Koi Patthar Se
Author
Category, , , ,
Language
Pages 135
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अलबत्ता जहाँ तक ओढ़ने का सवाल है , दादा जी ने दादी का मरते डैम तक अतलस के लिहाफ़े में ही महफूज रखा। नाते रिश्तेदार में हमारा घराना ‘लिहाफ़े वालों का घराना’ कहलाता था। चंद सिरफिरे यह मतलब निकाल लेते थे कि शायद हमारे यहाँ रुई धुनी जाती है या लिहाफों में तागे डाले जाते है। जो लोग समझदार थे और खानदानी रईस थे …….

Pustak Ka Vivaran : Alabatta jahan tak odhane ka saval hai , dada jee ne dadi ka marate daim tak atalas ke lihafe mein hee mahaphooj rakha. Nate Rishtedar mein hamara gharana lihaafe valon ka gharana kahalata tha. Chand siraphire yah matalab nikal lete the ki shayad hamare yahan Rui dhunee jati hai ya lihaphon mein tage dale jate hai. Jo log Samajhadar the aur khanadani Raes the…………

Description about eBook : However, as far as the covering is concerned, Grandpa kept safe in the context of Atlas till the grandmother’s dying dam. Our family was known as the ‘house of lovers’ in the absence of relatives. A few sirefires used to mean that perhaps cotton is washed in our house or we are thrown in the bags. People who were intelligent and family rich………………

“मैं सफलता की प्रार्थना नहीं करती हूं, मैं विश्वास के लिए कहती हूं।” मदर टेरेसा
“I do not pray for success, I ask for faithfulness.” Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment