हिंदी संस्कृत मराठी धर्म विज्ञानं

मय्यषी नदी के किनारे / Mayyashi Nadi Ke Kinare

मय्यषी नदी के किनारे : एम. मुकुन्दन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Mayyashi Nadi Ke Kinare : by M. Mukundan Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मय्यषी नदी के किनारे / Mayyashi Nadi Ke Kinare
Author
Category, , , ,
Language
Pages 304
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गोरों के बीच में पीकर मदमस्त होकर लंपटों जैसा जीवन बिताने वाले कुछ सज्जन लोग भी मय्षषी में हैं। उसी प्रकार वर्णसंकरों में भी दोनों प्रकार के लोग हैं। बस्ती वालों में बहुत सारे लोग गोरों से मिल पाने वाली सहायताओं और सहयोग के लिए कोई भी चोंगा पहनने में नहीं हिचकते। इस उपन्यास के
कथापात्रों में सहज रूप में तुलना……

Pustak Ka Vivaran : Goron ke beech mein peekar Madmast hokar lampaton jaisa jeevan bitane vale kuchh sajjan log bhee mayyashi mein hain. Usi prakar Varnasankaron mein bhi donon prakar ke log hain. Basti valon mein bahut sare log goron se mil pane vali sahayatayon aur sahayog ke liye koi bhi chonga pahanane mein nahin hichakate. Is upanyas ke Kathapatron mein sahaj roop mein tulana……

Description about eBook : Some gentlemen, who live in lumps and drink in the midst of the whites, are also in Mayyashi. Similarly, there are both types of people in Varnasankaras as well. Many people in the township do not hesitate to wear any cheongah for the help and support from the whites. In the novel of the novels, the comparison in the form of spontaneous …….

“सफलता के लिए आवश्यक है कि सफल होने की आपकी ललक असफल होने के भय से बढ़ कर हो। ” – बिल कॉस्बि
“In order to succeed, your desire for success should be greater than your fear of failure.” – Bill Cosby

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment