मेम साहब : निमाइ भट्टाचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Mem Sahab : by Nimai Battacharya Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameमेम साहब / Mem Sahab
Author
Category, , ,
Language
Pages 226
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सबसे मजा होता इम्तहान के समय । मेरे लगभग सभी दोस्तों की माँ दूध और मिठाई लिये लोहे के बढ़े फाटक के बाहर खड़ी रहतीं। घंटी बजी नही कि लड़के बेतहाशा भागते, जाकर दुध-मिठाई खाते | लेकिन मेरे लिए सो कभी कोई दूध का ग्लास लेकर खड़ी नहीं रही | घंटी बजने पर मैं तो कभी बेतहाशा नहीं भागा…….

Pustak Ka Vivaran : Sabase maja hota Imtahan ke samay . Mere Lagbhag sabhi doston ki man doodh aur mithai liye lohe ke badhe phatak ke bahar khadi rahateen. Ghanti baji nahi ki ladake betahasha bhagate, jakar dudh-mithai khate. Lekin mere liye so kabhi koi doodh ka glas lekar khadi nahin rahi. Ghanti bajane par main to kabhi betahasha nahin bhaga…….

Description about eBook : The most fun was the time of exams. Mother of almost all my friends used to stand outside the enlarged gate of iron with milk and sweets. The bell did not sound that the boys ran wildly, eating milk and sweets. But nobody ever stood for me with a glass of milk. I never ran wild when the bell rang…

“जो व्यक्ति कुछ पढ़ता नहीं है तो वह किसी अनपढ़ व्यक्ति की तुलना में श्रेष्ठ नहीं है।” ‐ मार्क ट्वेन
“The man who doesn’t read has no advantage over the man who can’t read.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment