मुक्तावती : बलभद्र ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Muktavati : by Balbhadra Thakur Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameमुक्तावती / Muktavati
Author
Category, , , ,
Language
Pages 535
Quality Good
Size 43 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : किसी समाज के परिचायक साहित्यिक साधनों में उपन्यास सबसे सरल, सरस और सब साधन माना जाता है। किन्तु उसकी सरलता, सरसता और सबलता निर्भर करती है उपन्यास एवं उपन्यासकार के निजी सामर्थ्य पर ! निजी ईमानदारी पर ! मै अथवा मेरा यह उपन्यास इस दिशा में कहाँ तक सफल हो सका है इसका निर्णय मेरे अधीन नही है। क्योंकि……

Pustak Ka Vivaran : Kisi Samaj ke parichayak sahityik sadhanon mein upanyas sabase saral, saras aur sab sadhan mana jata hai. Kintu uski saralata, sarasata aur sabalata nirbhar karatee hai upanyas evan upanyasakar ke Niji samarthy par ! Niji Emandari par ! Mai athava mera yah upanyas is disha mein kahan tak saphal ho saka hai isaka nirnay mere adhin nahi hai. Kyonki……..

Description about eBook : The novel is considered to be the simplest, succinct and all means of the literary means of a society. But its simplicity, simplicity and strength depend on the novel and the novelist’s personal ability! On personal honesty! To what extent I or my novel has been successful in this direction, its decision is not under my control. Because………

“हमारी नित्य की दिनचर्या में हम भूल जाते हैं कि हमारा जीवन तो एक अविरत अद्भुत अनुभव है।” ‐ माया एंजेलू
“Because of our routines we forget that our life is an adventure.” ‐ Maya Angelou

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment