पंचभूत : रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Panchbhoot : by Ravindra Nath Thakur Hindi PDF Book – Story (Kahani)

पंचभूत : रवीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कहानी | Panchbhoot : by Ravindra Nath Thakur Hindi PDF Book - Story (Kahani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पंचभूत / Panchbhoot
Author
Category,
Language
Pages 192
Quality Good
Size 4.7 MB

पुस्तक का विवरण : मैंने कहा-मेरा कहना है कि जीवन एक ओर रास्ता पकड़े चला जा रहा है। तुम यदि हाथ में कलम लेकर वैसी ही एक समानान्तर रेखा खींचे चलो तो क्रम से एक ऐसी अवस्था आने की संभावना है, जब यह समझना कठिन हो जायेगा कि तुम्हारी कलम तुम्हारे जीवन के अनुरूप रेखा खींचती जा रही है या तुम्हारा जीवन ही कलम की रेखा पकड़े जा रहा है……..

Pustak Ka Vivaran : Mainne kaha-mera kahana hai ki jeevan ek or rasta pakade chala ja raha hai. Tum yadi hath mein kalam lekar vaisi hi ek samanantar rekha kheenche chalo to kram se ek aisi avastha aane ki Sambhavana hai, jab yah samajhana kathin ho jayega ki tumhari kalam tumhare jeevan ke anuroop rekha kheenchati ja rahi hai ya tumhara jeevan hi kalam ki rekha pakade ja raha hai……..

Description about eBook : I said – I have to say that life is going on one side. If you draw a similar parallel line with a pen in your hand, then there is a possibility of a stage coming in the sequence, when it will be difficult to understand whether your pen is drawing the line according to your life or your life itself is holding the line of the pen. He is going……..

“आप किसी व्यक्ति से जिस भाषा को वह समझता हो उसमें बात करें तो बात उसकी समझ में आती है। लेकिन आप अगर उससे उसकी मातृभाषा में बात करें तो वह उसके दिल में जाती है।” – नेल्सन मंडेला
“If you talk to a man in a language he understands, that goes to his head. If you talk to him in his language, that goes to his heart.” – Nelson Mandela

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment