पानी के प्राचीर : रामदरश मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Pani Ke Prachir : by Ramdarash Mishra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameपानी के प्राचीर / Pani Ke Prachir
Author
Category, , , ,
Language
Pages 324
Quality Good
Size 13.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अरे उल्लुओ, भागते क्यों हो ? तेली-तमोली गाँव में इसीलिए होते हैं। हम लोगों का यह हक होता है कि उनकी चीजें होली में डाल दें। कहता हुआ भाज की बाल-मंडली का अगुवा महेश निरबल तेली पर पिल पड़ता है। कहा-सुनी हो जाती है। मुखिया का बेटा महेश निरबल तैली पर दो-तीन लाठी जमा भी देता है। निरबल का जी…….

Pustak Ka Vivaran : Are Ulluo, Bhagate k‍yon ho ? Teli-Tamoli Ganv mein isiliye hote hain. Ham logon ka yah hak hota hai ki unki cheejen holi mein dal den. Kahata huya bhaj ki bal-mandali ka aguva mahesh Nirbal teli par pil padata hai. Kaha-suni ho jati hai. Mukhiya ka beta mahesh Nirbal Teli par do-teen lathi jama bhi deta hai. Nirbal ka ji……….

Description about eBook : Hey owls, why are you running? This is why Teli-Tamoli are in the village. We have the right to put their things in Holi. Saying this, Mahesh Nirbal, the leader of the BJP’s troupe, falls on the Teli. It is said and heard. The chief’s son Mahesh Nirbal also deposits two or three sticks on the oil. Nirbal Ji ……….

“अगर एक व्यक्ति को मालूम ही नहीं कि उसे किस बंदरगाह की ओर जाना है, तो हवा की हर दिशा उसे अपने विरुद्ध ही प्रतीत होगी।” सेनेका
“If a man does not know to which port he is steering, no wind is favourable to him.” Seneca

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment