पत्थर की आंख : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Patthar Ki Aankh : Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

पत्थर की आंख : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Patthar Ki Aankh : Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पत्थर की आंख / Patthar Ki Aankh
Author
Category,
Language
Pages 152
Quality Good
Size 12 MB
Download Status Available

पत्थर की आंख पुस्तक का कुछ अंश“शादीशुदा है ? शायद नहीं।” अपनी आँखों को और भी गड़ाते हुए गुलशाद ने जैसे अपने आप ही से कहा–“कुछ मालूम नहीं पड़ता ।” जमील चुपचाप सोच रहा था। मल्का की तरह बोट की छत को रौशन करने वाली यह कौन है ? इसका परिचय क्या है? वह नीले रंग की साड़ी पहिने हुए थी । सिर खुला हुआ था। गले में लिपटा हुआ आँचल हवा में झंडे की तरह फरफर उड़ रहा था। बायें हाथ में लाल रंग का छोटा-सा छाता तिरछा कर के पकड़े हुई थी । वेश-भूषा से वह बहुत ‘माडर्न’ लगती थी। जमील……….

Patthar Ki Aankh PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : “Shadishuda hai ? Shayad nahin.” apni Aankhon ko aur bhi gadate huye Gulshad ne jaise apane aap hi se kaha–“kuchh maloom nahin padata.” Jameel chupchap soch raha tha. Malka ki tarah bot ki chhat ko raushan karne vali yah kaun hai ? Iska parichay kya hai? Vah neele rang ki sari pahine huye thee. Sir khula huya tha. Gale mein lipata huya aanchal hava mein jhande ki tarah pharaphar ud raha tha. Bayen hath mein lal rang ka chhota-sa chhata tirachha kar ke pakade huyi thi. Vesh-Bhoosha se vah bahut madarn lagti thi. Jameel……….
Short Passage of Patthar Ki Aankh Hindi PDF Book : “Married? Probably not. Deepening his eyes even more, Gulshad said to himself, “I don’t know anything.” Jamil was thinking silently. Who is this to light up the roof of the boat like Malka? What is its introduction? She was wearing a blue saree. The head was open. Aanchal wrapped around his neck was fluttering like a flag in the wind. In the left hand, a small red colored umbrella was held diagonally. She looked very ‘modern’ in dress. Jameel……….
“हमें ऐसा साफ़ दृष्टिकोण दीजिए जिससे हम जान पाएं कि हमें कहां खड़ा होना है और किस बात के लिये खड़ा होना है – क्योंकि जब तक हम किसी बात के लिये खड़े नहीं होंगे हम किसी भी बात पर गिर जायेंगे।” पीटर मार्शल
“Give us clear vision that we may know where to stand and what to stand for – because unless we stand for something we shall fall for anything.” Peter Marshall

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment