षट्कर्म-विधान : योगेश्वरानंद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र-मंत्र | Shatkarma Vidhan : by Yogeshwaranand Hindi PDF Book – Tantra-Mantra

Book Nameषट्कर्म-विधान / Shatkarma Vidhan
Author,
Category, ,
Language
Pages 17
Quality Good
Size 996 KB
Download Status Available
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : जब ऋण, शत्रु रोग मुकदमा आदि को निष्प्रभावी करने के सभी उपाय असफल हो जाते है, व्यक्ति स्वय॑ को पराक्रमहीन महसूस करने लगता है ; भौतिक संसाधन एवं पुरुषार्थ की सभी सीमायें समाप्त हो जाती है, ऐसी परिस्थितियों में ,मनुष्य के समक्ष एक विकल्प शेष रह जाता है, वो है परमात्मा की शरण | विभिन्न देवी-देवताओं की शरण | ऐसी स्थिति में वह तंत्रों-मन्त्रों का आश्रय लेता है…………

Pustak Ka Vivaran : Jab rn, shatru, rog mukadma aadi ko nishprabhavi karne ke sabhi upay asaphal ho jate hai, vyakti svayan ko parakramahin mahasus karne lagta hai ; bhautik sansadhan evan purusharth ki sabhi simayen samapt ho jati hai, aisi paristhitiyon mein ,manushy ke samaksh ek vikalp shesh rah jata hai, vo hai paramatma ki sharan. Vibhinn devi-devtaon ki sharan. Aisi sthiti mein vah tantron-mantron ka aashray leta hai…………

Description about eBook : When all measures of neutralization of debt, enemy, disease, etc. are unsuccessful, the person starts feeling selfless; All the limits of physical resources and happiness are exhausted, in such circumstances, there is an option left before man, that is the refuge of God. Asylum of various gods and goddesses. In such a situation, he takes shelter of mechanisms………………

“प्रत्येक कृति में सुंदरता होती है, लेकिन हर कोई इसे देख नहीं सकता।” ‐ कन्फूशियस
“Everything has beauty, but not everyone sees it.” ‐ Confucius

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment