दण्ड विधान : दिवाकर द्वारा हिंदी हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Dand Vidhan : by Diwakar Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

दण्ड विधान : दिवाकर द्वारा हिंदी हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Dand Vidhan : by Diwakar Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दण्ड विधान / Dand Vidhan
Author
Category, , ,
Language
Pages 221
Quality Good
Size 13 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : राब बीरेन्द्र सिंह राजस्थान के पुराने ताल्‍्लुकदार थे। ताल्लुक समाप्त हो चुका था उनका, परन्तु धन-सम्पत्ति की उनके पास कमी न थी। जयपुर से लगभग दस किलोमीटर की दूरी पर उनका एक बहुत बड़ा फार्म था और उसी के निकट उनका पत्थरों का खदाना था, जिसमें से बढ़िया किस्म का पत्थर निकलता था …….

Pustak Ka Vivaran : Rav Veerendra Singh Rajsthan ke purane tallukadar the. Talluk samapt ho chuka tha unaka, parantu dhan-sampatti kee unake pas kamee na thee. Jaypur se lagabhag das kilomeetar kee doori par unaka ek bahut bada pharm tha aur usee ke nikat unaka pattharon ka khadana tha, Jisamen se badhiya kism ka patthar nikalata tha…………

Description about eBook : Rao Virendra Singh was the oldest locals of Rajasthan. Their relationship had ended, but they had no lack of wealth. He had a huge farm at a distance of about ten kilometers from Jaipur and near to him was a stone’s hearth, from which a fine stone came out…………

“वह सब कुछ जो आपने कभी भी चाहा है, वह भय के दूसरी ओर है।” – जॉर्ज एडेयर
“Everything you’ve ever wanted is on the other side of fear.” – George Addair

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment