सूरज का सातवाँ घोड़ा : धर्मवीर भारती द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Suraj Ka Satvan Ghoda : by Dharamveer Bharti Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameसूरज का सातवाँ घोड़ा / Suraj Ka Satvan Ghoda
Author
Category, , , , , ,
Pages 46
Quality Good
Size 851 KB

पुस्तक का विवरण : “सूरज का सातवाँ घोड़ा’ एक कहानी में अनेक कहानियाँ नहीं, अनेक कहानियों में एक कहानी है। वह एक पूरे समाज का चित्र और आलोचन है; और जैसे उस समाज की अनंत शक्तियाँ परस्पर-संबद्ध, परस्पर आश्रित और परस्पर संभत हैं, वैसे ही उसकी कहानियाँ भी। प्राचीन चित्रों में जैसे एक ही फलक पर परस्पर कई घटनाओं का……..

Pustak Ka Vivaran : Sooraj ka Satvan Ghoda ek kahani mein Anek kahaniyan nahin, Anek kahaniyon mein ek kahani hai. Vah ek poore samaj ka chitra aur Aalochan hai; aur jaise us samaj ki anant shaktiyan paraspar-sambaddh, paraspar aashrit aur paraspar sambhat hain, vaise hi uski kahaniyan bhi. Pracheen chitron mein jaise ek hi phalak par paraspar kayi Ghatanayon ka…….

Description about eBook : Sooraj Ka Seventh Ghoda is not many stories in one story, but one story in many stories. He is the portrait and criticism of a society as a whole; And just as the infinite forces of that society are interconnected, interdependent and mutually possible, so are its stories. In ancient paintings like many events on the same face……

“संभावनाओं की सीमाओं का पता लगाने का एकमात्र रास्ता है कि उनसे आगे बढ़कर असंभव तक पहुंचा जाए।” ‐ आर्थर सी. क्लार्क
“The only way of finding the limits of the possible is by going beyond them into the impossible.” ‐ Arthur C. Clarke

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment