तर्कशील पथ जनवरी 2014 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Tarksheel Path January 2014 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

तर्कशील पथ जनवरी 2014 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पत्रिका | Tarksheel Path January 2014 : Hindi PDF Book - Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तर्कशील पथ जनवरी 2014 / Tarksheel Path January 2014
Author
Category,
Language
Pages 52
Quality Good
Size 45 MB
Download Status Available

तर्कशील पथ जनवरी 2014 पुस्तक का कुछ अंशकभी डायन-प्रथा भारत ही नहीं पूरे विश्व में पाई जाती थी, यूरोपीय मुल्कों में भी “विच-क्राफ्ट”’ के नाम पर यह सब प्रचलित रहा है। देश के बहुत से राज्य जहां विकास एवं सामाजिक आन्दोलनों के कारण इस काुप्रथा से मुक्त हो गए हैं, वहीं देश के कुछ राज्यों में अभी भी यह उत्पीड़न बेहद दुःखदायी है। यह कानून मुख्यतः इसी कुप्रथा पर फोक्स करता है। आवश्यकता है कि अंधविश्वास विरोधी कानून का दायरा और विस्तृत किया जाए और इनके………..

Tarksheel Path January 2014 PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Kabhi Dayan-pratha bharat hi nahin poore vishv mein payi jati thi, European mulkon mein bhi “Vich-krapht” ke nam par yah sab prachalit raha hai. Desh ke bahut se Rajy jahan vikas evan samajik Aandolanon ke karan is kaupratha se mukt ho gaye hain, vahin desh ke kuchh Rajyon mein abhi bhee yah utpidan behad duhkhadayi hai. Yah Kanoon mukhyatah isi kupratha par phoks karta hai. aavashyakata hai ki andhavishvas virodhi kanoon ka dayara aur vistrt kiya jaye aur inke………
Short Passage of Tarksheel Path January 2014 Hindi PDF Book : Once upon a time witch-practice was found not only in India but all over the world, it has been prevalent in European countries also in the name of “witch-craft”. While many states of the country have become free from this practice due to development and social movements, on the other hand, this oppression is still very painful in some states of the country. This law mainly focuses on this malpractice. There is a need that the scope of the anti-superstition law should be further expanded and……..
“आप रचनात्मकता को प्रयोग कर समाप्त नहीं कर सकते। जितना आप प्रयोग में लेते हैं, उतनी ही बढ़ती है।” ‐ माया एंजोलो
“You can’t use up creativity. The more you use, the more you have.” ‐ Maya Angelou

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment