वेदांत दर्शन ब्रह्मसूत्र : वेदव्यास | Vedant Darshan Brahmasutra : by Vedvyas Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name वेदांत दर्शन ब्रह्मसूत्र / Vedant Darshan Brahmasutra
Category
Language
Pages 420
Quality Good
Size 15.8 MB
Download Status Available

वेदांत दर्शन ब्रह्मसूत्र पुस्तक का कुछ अंश : भाव यह है कि देवता, दैत्य, दानव, मनुष्य, पशु पक्षी आदि अनेक जीवो-परिपूर्ण से ५, सूर्य, चन्द्रमा, तारा तथा नाना लोक-लोकान्तरो से सम्पन्न इस अनन्त ब्रह्माण्ड का कर्ता-हर्ता कोई अवश्य है, यह हरेक मनुष्य की समझने आ सकता है; वही ब्रह्म है। उसी को परमेश्वर, परमात्मा और भगवान्‌ आदि विविध नामो से कहते……….

Vedant Darshan Brahmasutra PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Bhav yah hai ki devta, daity, danav, Manushy, pashu pakshi aadi anek jeevo-paripurn se 5, soory, chandrama, tara tatha nana lok-lokantaro se Sampann is anant brahmand ka karta-harta koi avashy hai, yah harek manushy ki samajhane aa sakta hai; vahi brahm hai. Usee ko parameshvar, paramatma aur bhagvan‌ aadi vividh namo se kahate……….
Short Passage of Vedant Darshan Brahmasutra Hindi PDF Book : The sense is that there must be someone who is the doer-destroyer of this infinite universe full of gods, demons, demons, humans, animals and birds etc. may come; That is Brahman. The same is called by various names like Parameshwar, Parmatma and Bhagwan etc……..
“आदर्शवादी व्यक्ति वह है जो यह जानने के बाद कि गुलाब की महक गोभी से बेहतर होती है, यह निष्कर्ष निकालता है कि उसका सूप भी गोभी की तुलना में अच्छा बनेगा।” – एच. मेन्केन
“An idealist is one who, on noticing that a rose smells better than a cabbage, concludes that it will also make a better soup.” – H. Mencken

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment