विज्ञान भैरव तंत्र : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Vigyan Bhairav Tantra : by Osho Hindi PDF Book – Social (Samajik)

विज्ञान भैरव तंत्र : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Vigyan Bhairav Tantra : by Osho Hindi PDF Book – Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विज्ञान भैरव तंत्र / Vigyan Bhairav Tantra
Author
Category, ,
Language
Pages 95
Quality Good
Size 1 MB

पुस्तक का विवरण : विज्ञान भैरव तंत्र का जगत बौद्धिक नहीं है। वह दार्शनिक भी नहीं है। तंत्र शब्द का अर्थ है। विधि, उपाय, मार्ग। इस लिए यह एक वैज्ञानिक ग्रन्थ है। विज्ञान “क्यों” की नहीं, “कैसी” की फ़िक्र करता करता है। दर्शन और विज्ञान में यही बुनियादी भेद है। दर्शन पूछता है। यह अस्तित्व क्यों है? विज्ञान पूछता है, यह अस्तित्व कैसे है ? जब  तुम कैसे का प्रश्न पूछते हो, तब  उपाय, विधि, महत्वपूर्ण हो जाती है| तब सिद्धांत व्यर्थ हो जाता है। अनुभव केंद्र बन जाता है…………

विज्ञान भैरव तंत्र : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Vigyan Bhairav Tantra : by Osho Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Pustak Ka Vivaran : Vigyan Bhairav tantra ka jagat bauddhik nahin hai. Vah Darshanik bhi nahin hai. Tantra shabd ka arth hai. Vidhi, upay, marg. Is liye yah ek vaigyanik granth hai. Vigyan “Kyon” ki nahin, “Kaisi” ki fikr karata karata hai. Darshan aur vigyan mein yahi buniyadi bhed hai. Darshan poochhata hai. Yah Astitv kyon hai ? Vigyan poochhata hai, yah astitv kaise hai ? Jab tum kaise ka prashn poochhate ho, tab upay, vidhi, Mahatvapurn ho jati hai. Tab Siddhant vyarth ho jata hai. Anubhav kendra ban jata hai…………

Description about eBook : The science of science Bhairav ​​system is not intellectual. He is not even philosophical. The word system means. Method, remedy, route. So this is a scientific book. Science does not worry about “why”, “how”. This is the basic difference between philosophy and science. Philosophy asks. Why is this existence? Science asks, how is this existence? When you ask a question, then the remedy, method, becomes important. Then the principle becomes in vain. The experience center becomes……………….

“जब हम किसी नई परियोजना पर विचार करते हैं तो हम बड़े गौर से उसका अध्ययन करते हैं – केवल सतह मात्र का नहीं, बल्कि उसके हर एक पहलू का।” ‐ वाल्ट डिज़्नी
“When we consider a new project, we really study it – not just the surface idea, but everything about ¡t.” ‐ Walt Disney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “विज्ञान भैरव तंत्र : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Vigyan Bhairav Tantra : by Osho Hindi PDF Book – Social (Samajik)”

Leave a Comment