अब दिल किधर से लायेंगे : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Ab Dil Kidhar Se Layenge : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameअब दिल किधर से लायेंगे / Ab Dil Kidhar Se Layenge
Author
Category, , , ,
Language
Pages 1
Quality Good
Size 212 KB

पुस्तक का विवरण : सारी उम्र इसके, उसके जिसके, तिसके पीछे भागता रहा फूलों से, किसलय से नदियों से, नालों से कभी कोई बात नहीं की और अब सब रूठठे हुए हैं। क्रोध में है पृथ्वी पृथ्वी क्रोध कैसे कम हो फूलों के,किसलय के नदियों के, नालों के मन को समझें कैसे। ये स्वजन हैं मान जायेंगे जब दिल क्षमा के गीत गाये……

अब दिल किधर से लायेंगे : प्रफुल्ल कोलख्यान द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Ab Dil Kidhar Se Layenge : by Prafull Kolakhyan Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Pustak Ka Vivaran : Sari umr iske, uske jisake, tiske peechhe bhagata raha phoolon se, kislay se Nadiyon se, Nalon se kabhi koi bat nahin ki aur ab sab roothe huye hain. Krodh mein hai prthvi prthvi krodh kaise kam ho phoolon ke, kisalay ke Nadiyon ke, Nalon ke man ko samajhen kaise. Ye Svajan hain Man jayenge jab dil kshama ke Geet gaye……..

Description about eBook : The whole life has never talked to him, to whom, to whom, to whom he ran after flowers, to whom he had never spoken to the rivers, to the drains and now everyone is upset. The earth is in anger, how to reduce the anger of the flowers, how to understand the mind of the rivers and streams of the river. These are relatives when the heart sings the song of forgiveness……..

 

“ऐसा नहीं है कि मैं बहुत चतुर हूं; सच्चाई यह है कि मैं समस्याओं का सामना अधिक समय तक करता हूं।” ‐ अल्बर्ट आंईस्टीन
“It’s not that I’m so smart; it’s just that I stay with problems longer.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment