जंतु-विज्ञान : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – विज्ञान | Jantu Vigyan : Hindi PDF Book – Science (Vigyan)

जंतु-विज्ञान : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - विज्ञान | Jantu Vigyan : Hindi PDF Book - Science (Vigyan)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जंतु-विज्ञान / Jantu Vigyan
Author
Category,
Language
Pages 478
Quality Good
Size 17.7 MB
Download Status Available

जंतु-विज्ञान पुस्तक का कुछ अंशपेड़-पौधो के अतिरिक्त मनुष्य को अपने भोजन के लिए ज॑ंतुओं पर भी निर्भर रहना पड़ता है | दूध, मक्खन, घी, पनीर, मांस, मछली, अंडे इत्यादि हमें ज॑तुओं से ही मिलता है | देश की भौगोलिक स्थिति के अनुसार ही आमतौर पर मनुष्य का भोजन होना चाहिए | उदाहरण के लिए समुन्ध के किनारे रहने वाले लोगों के भोजन में मछली, केकड़ा, झीगा, सीपी, घोघा का प्रमुख स्थान होता है…….

Jantu Vigyan PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Ped-paudho ke atirikt manushy ko apne bhojan ke lie jantuon par bhi nirbhar rahna padata hai. Dudh, makkhan, ghi, panir, mans, machhali, ande ityadi hamen jantuon se hi milta hai. Desh ki bhaugolik sthiti ke anusar hi aamtaur par manushy ka bhojan hona chahie. Udaharan ke lie samundr ke kinare rahne wale logon ke bhojan mein machhali, kekda, jhiga, sipi, ghogha ka pramukh sthan hota hai…………
Short Passage of Jantu Vigyan vHindi PDF Book : In addition to tree plants, humans have to depend on animals for their food. Milk, butter, ghee, cottage cheese, meat, fish, eggs etc. we get only from animals. According to the geography of the country, man should usually have food. For example, in the food of people living along the seashore, there is a prominent place for fish, crab, zigas, caps, hooves……………
“प्रेम करने वाला व्यक्ति प्रेम की दुनिया में रहता है। झगड़ालू व्यक्ति युद्ध जैसी दुनिया में रहता है। प्रत्येक ऐसा जिससे आप मिलते हैं, वह आपकी ही छवि होती है।” ‐ केन कैन्स, जूनियर
“A loving person lives in a loving world. A hostile person lives in a hostile world. Everyone you meet is your mirror.” ‐ Ken Keyes, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

3 thoughts on “जंतु-विज्ञान : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – विज्ञान | Jantu Vigyan : Hindi PDF Book – Science (Vigyan)”

    • Hello Book is downloading fine but due high traffic speed has been slow down please try again and for some time for downloading. Thank You!

      Reply

Leave a Comment