कामाख्यातन्त्रम : राधेश्याम चतुर्वेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Kamakhya Tantram : by Radheshyam Chaturvedi Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Nameकामाख्यातन्त्रम / Kamakhya Tantram
Author
Category, , , ,
Language
Pages 195
Quality Good
Size 6 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

पुस्तक का विवरण : तंत्र शिवमुखोक्त शास्त्र है जो पावै को सम्बोधित कर कहा गया है। तंत्रशासत्र के अवतरण में वासुदेव कार्तिक गरुण आदि का भी योगदान है। तंत्र शब्द अनन्त स्वरूप को संकुचित कर जड़ चेतन के रूप में अभिव्यक्त अथवा आभासित कर नाना प्रकार से क्रीड़ा करती है बाद में अनेक उपायों के द्वारा अपने संकोच को हटा………..

Pustak Ka Vivaran : Tantra Shivamukhokt shastr hai jo pavai ko sambodhit kar kaha gaya hai. Tantrashastr ke avataran mein vasudev karttik garun aadi ka bhee yogadan hai. Tantra shabd anant svaroop ko sankuchit kar jad chetan ke roop mein abhivyakt athava aabhasit kar nana prakar se kreeda karatee hai bad mein anek upayon ke dvara apane sankoch ko hata…………

Description about eBook : Tantra is the Shivamukta scripture which is said to have been addressed to Pavai. Vasudev Kartik Garun etc. has also contributed to the descent of Tantra Shastra. The word Tantra completes the infinite form and expresses it as a root conscious or makes it play in a different way, later it removes its inhibitions through many measures……………….

“एक राष्ट्र की शक्ति उसकी आत्मनिर्भरता में है, दूसरों से उधार लेकर पर काम चलाने में नहीं।” ‐ इंदिरा गांधी
“A nation’s strength ultimately consists in what it can do on its own, and not in what it can borrow from others.” ‐ Indira Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment