मेरी कहानी : हरिभाऊ उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Meri Kahani : by Haribhau Upadhyay Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

मेरी कहानी : हरिभाऊ उपाध्याय द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आत्मकथा | Meri Kahani : by Haribhau Upadhyay Hindi PDF Book - Autobiography (Atmakatha)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मेरी कहानी / Meri Kahani
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 959
Quality Good
Size 12.25 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इस ग्रन्थ का पहला संस्करण से कोई पच्चीस साल पहले निकाला था। इन सालों में उसके नौ संस्करण निकल चुके है और अब यह दसवां पाठकों के हाथों में पहुंच रहा है। पुस्तक इतने महत्त्व की है कि इसकी मांग आगे भी बराबर बनी रहेगी। पहला संस्करण बड़ी जल्दी में निकाला गया था। बाद के संस्करण में सारी किताब को फिर………….

Pustak Ka Vivaran : Is Granth ka Pahala sanskaran se koi Pachchees sal pahale nikala tha. In salon mein usake nau sanskaran nikal chuke hai aur ab yah dasavan pathakon ke hathon mein pahunch raha hai. Pustak itane mahattv kee hai ki isaki mang Aage bhee barabar banee rahegi. Pahala sanskaran badi jaldi mein nikala gaya tha. Bad ke Sanskaran mein sari kitab ko phir……….

Description about eBook : The first edition of this book was taken out twenty-five years ago. In these years, nine editions have been released and now it is reaching the tenth readers’ hands. The book is of such importance that its demand will remain equal even further. The first version was released in a hurry. In a later version, the whole book was again ……….

“दूसरा व्यक्ति क्या करता है, उस पर आपका नियंत्रण नहीं होता है। आपके पास केवल इतना नियंत्रण है कि आप क्या करते हैं।” ‐ ए.जे.किट्ट
“You have no control over what the other guy does. You only have control over what you do.” ‐ A. J. Kitt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment