पातंजल योगसूत्र : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Patanjal Yogasutra : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

पातंजल योगसूत्र : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Patanjal Yogasutra : Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पातंजल योगसूत्र / Patanjal Yogasutra
Author
Category,
Language
Pages 136
Quality Good
Size 35 MB
Download Status Available

पातंजल योगसूत्र पुस्तक का कुछ अंशयह पुस्तक योगसूत्र के पुनर्मूल्यांकन की दिशा में मात्रा एक नन्हा-सा कदमहै। इसमें किया गया विवेचन किसी भी प्रकार सर्वंगीन नहीं है। इस विषय में गहन शोध की आवश्यकता है जैसे इस विषय से निश्चित सारे तथा प्रकाश में आ सके। तत्काल संदर्भ हटू योगसूत्र के सूत्रों को भी मूल रूप में इस पुस्तक के “परिशिष्ट के रूप में संथागन कर दिया गया है। पुस्तक पर रचनात्मक आलोचना का स्वागत है एवं भविष्य में कि जाने योग सुधरों के लिए सुझाव आमन्त्रित हैं। बजात………..

Patanjal Yogasutra PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Yah Pustak Yogasootra ke Punarmoolyankan ki disha mein matra ek nan‍ha-sa kadamahai. Isamen kiya gaya vivechan kisi bhi prakar sarvangeen nahin hai. Is Vishay mein gahan shodh ki aavashyakata hai jisase is vishay se sabandhit sare tathy prakash mein aa saken. Tatkalik sandarbh hatu yogasootra ke sootron ko bhi mool roop mein is pustak ke “Parishisht ke roop mein santhagan kar diya gaya hai. Pustak par rachanatmak aalochana ka svagat hai evan bhavishy mein kiye jane yogy sudharon ke liye sujhav aamantrit hain. Bajat……….
Short Passage of Patanjal Yogasutra Hindi PDF Book : This book is only a small step in the direction of reappraisal of the Yoga Sutras. The discussion made in it is not comprehensive in any way. Deep research is needed in this subject so that all the facts related to this subject can come to light. The Sutras of the Yoga Sutras have also been originally organized as an “Appendix” to this book for ready reference. Constructive criticism on the book is welcome and suggestions for future improvements are invited. Budget……….
“प्रेम के बिना जीवन उस वृक्ष की भांति है जो फूल तथा फलों से रहित है।” ‐ काहलिल जिब्रान
“Life without love is like a tree without blossoms or fruit.” ‐ Kahlil Gibran

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment