उत्तररामचरितम : डॉ. श्रीमती प्रेरणा माथुर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Uttar Ramcharitam : by Dr. Shrimati Prerana Mathur Hindi PDF Book – Granth

Book Nameउत्तररामचरितम / Uttar Ramcharitam
Author
Category, , ,
Language
Pages 240
Quality Good
Size 39.5 MB
Download Status Available

उत्तररामचरितम का संछिप्त विवरण : हृदय में सीता विषयक विरह वेदना अत्यंत बढ़ी हुई है। अपने पुराने क्रोड़ास्थलों को देखकर राम मूर्च्छित हो जाते हैं तब सीता अपने स्पर्श से उन्हें चेतन करती हैं। यद्यपि राम सीता को देख नहीं पाते पर उन्हें विश्वास हो जाता है कि यह स्पर्श सीता का ही है अन्य का नहीं। बातचीत के प्रसंग में वासंती राम को सीता के निर्वासन का उलाहना देती है। राम सीता के शोक में प्रमुक्त कंठ होकर विलाप……….

Uttar Ramcharitam PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Hriday mein Seeta vishayak virah vedana atyant badhi huyi hai. apane purane krodasthalon ko dekhakar Ram Moorchchhit ho jate hain tab Seeta apane sparsh se unhen chetan karti hain. Yadyapi Ram Seeta ko dekh nahin pate par unhen vishvas ho jata hai ki yah sparsh Seeta ka hee hai any ka nahin. baatacheet ke prasang mein vasanti Ram ko Seeta ke nirvasan ka ulahana deti hai. Ram Seeta ke shok mein pramukt kanth hokar vilap……….
Short Description of Uttar Ramcharitam PDF Book : The anguish of separation in the heart about Sita has increased greatly. Rama faints after seeing his old anger places, then Sita animates them with her touch. Although Rama cannot see Sita, he is convinced that this touch is of Sita and not of others. In the context of the conversation, Vasanti blames Rama for Sita’s exile. Lamenting with a free throat in the mourning of Ram Sita………….
“घृणा के घाव बदसूरत होते हैं; और प्रेम के खूबसूरत।” ‐ मिगनों मैकलोलिन
“Hate leaves ugly scars; love leaves beautiful ones.” ‐ Mignon McLaughlin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment