विवेक ज्योति मार्च २०२१ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Vivek Jyoti March 2021 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

विवेक ज्योति मार्च २०२१ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Vivek Jyoti March 2021 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name विवेक ज्योति मार्च २०२१ / Vivek Jyoti March 2021
Author
Category, ,
Language
Pages 47
Quality Good
Size 3.6 MB
Download Status Available

विवेक ज्योति मार्च २०२१ का संछिप्त विवरण : श्रीरामकृष्ण के समय हर व्यक्ति में रावण-कंस बैठा हुआ था। वर्षों की गुलामी से आत्मविश्वासहीनता, आत्मग्लानि, आधुनिक प्रभाव से ईश्वर पर अनास्था और अँग्रेजों के साथ – साथ राजा-महाराजाओं, जमींदारों दास गरीब असहाय जनता पर अत्याचार का वातावरण था। लोगों की दृष्टि में धर्म, सेवा की परिभाषाएँ भिन्न थीं। अत: श्रीरामकृष्ण का उद्देश्य था……

Vivek Jyoti March 2021 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shri Ramakrishna ke samay har vyakti mein Ravan-Kans baitha huya tha. Varshon ki Gulami se Aatmavishvasahinata, Aatmaglani, Aadhunik prabhav se Ishvar par Anastha aur Angrejon ke sath – sath Raja-Maharajayon, Jamindaron das Gareeb Asahay janata par Atyachar ka vatavaran tha. Logon ki drshti mein dharm, seva ki Paribhashayen bhinn theen. At: Shri Ramakrishna ka uddeshy tha……..
Short Description of Vivek Jyoti March 2021 PDF Book : At the time of Sri Ramakrishna, Ravana and Kansa were sitting in everyone. Years of slavery led to lack of confidence, self-aggrandizement, disbelief in God due to modern influence and oppression on the British as well as the kings-maharajas, landlords, slaves, poor helpless people. The definitions of religion, service were different in the eyes of the people. So the aim of Sri Ramakrishna was………
“किसी को राय देने की तुलना में किसी अच्छी राय से फ़ायदा उठाने के लिये अधिक बुद्धिमत्ता की आवश्यकता होती है।” ‐ जे. कॉलिंस
“To profit from good advice requires more wisdom than to give it.” ‐ J. Collins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment