गीता गंगा मृतम : एस. एस. राजवत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Geeta Ganga Mritam : by S. S. Rajwat Hindi PDF Book – Social (Samajik)

गीता गंगा मृतम : एस. एस. राजवत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Geeta Ganga Mritam : by S. S. Rajwat Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गीता गंगा मृतम / Geeta Ganga Mritam
Author
Category,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

गीता गंगा मृतम का संछिप्त विवरण : “सृष्टि के पूर्व केवल मैं ही था। मेरे अतिरिक्त न स्थूल था न सूक्ष्म और न तो दोनों का कारण अज्ञान जहाँ यह सृष्टि नहीं है। वहाँ मैं ही-मै हूँ। और इस सृष्टि के रूप में जो कुछ प्रतीत हो रहा है वह भी मैं ही हूँ और जो कुछ बच रहेगा वह भी मैं ही हूँ| वास्तव में न होने पर भी जो कुछ अनिर्वचनीय वस्तु मेरे अतिरिक्त मुझ परमात्मा में दो चन्द्रमाओं की तरह मिथ्या ही प्रतीत हो रही है। अथवा विद्यमान होने पर भी आकाश मण्डल के नक्षत्रों में राहु की भाँति जो मेरी प्रतीति……..

 

Geeta Ganga Mritam PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Srshti ke Purv keval main hi tha. Mere Atirikt na sthool tha na sookshm aur na to donon ka karan agyan jahan yah srshti nahin hai. Vahan main-hi-mai hoon. Aur is srshti ke roop mein jo kuchh prateet ho raha hai vah bhi main hi hoon aur jo kuchh bach rahega vah bhi main hi hoon. Vastav mein na hone par bhi jo kuchh Anirvachaniy vastu mere atirikt mujh paramatma mein do chandramayon ki tarah mithya hi prateet ho rahi hai. athava vidyaman hone par bhi Aakash mandal ke nakshatron mein rahu ki bhanti jo meri prateeti………
Short Description of Geeta Ganga Mritam PDF Book : Before creation, I was the only one. Apart from me neither was gross nor subtle nor neither was ignorance where it is not a creation. I am there only. And whatever seems to be in the form of this creation, I am also the one and whatever remains will be the same. In spite of my absence, whatever inexplicable thing seems to be false to me, like two moons in God. Or even if it exists, like Rahu in the constellations of the sky, which I believe………
“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment