पड़ोसी : पी. केशवदेव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Padosi : by P. Keshav Dev Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameपड़ोसी / Padosi
Author
Category, , , ,
Language
Pages 386
Quality Good
Size 16 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : फाटक से आगे बढ़कर दक्षिण की तरफ उन्होंने दृष्टि डाली तो देखा कि पाठशाला के सामने बड़ी भीड़ है। सर ऊँचा करके द्रण चरणों से वे आगे बढ़े। पाठशाला के नजदीक पहुँचते ही दोनों तरफ सहमी हुई भीड़ ने झुककर उनको प्रणाम किया। पाठशाला और कचहरी के बरामदे में ठंडी हवा से ठिठुरने वाले लोगों ने भी उठकर उन्हें प्रणाम किया। बाढ़ के भीषण आक्रमण…….

Pustak Ka Vivaran : Fatak se Aage badhakar dakshin kee taraph unhonne drshti dali to dekha ki pathashala ke samane badi bheed hai. Sar Uncha karake dran charanon se ve aage badhe. Pathashala ke Najdeek pahunchate hee donon taraph sahamee huyi bheed ne jhukakar unako pranam kiya. Pathashala aur kachahari ke baramade mein thandee hava se thithurane vale logon ne bhee uthakar unhen pranam kiya. Badh ke bheeshan Aakraman…………

Description about eBook : Looking ahead from the gate to the south, he saw that there was a large crowd in front of the school. He raised his head with drunken feet. As soon as we reached near the school, the crowds on both sides bowed down and bowed to him. People who chilled with cold air in the school and verandah of the court also got up and bowed to him. Severe flood attack………………

“शांतचित्तता तो पारे की तरह है। आप इसे पाने की जितनी ज्यादा कोशिश करते हैं, यह उतनी ही मुश्किल से हाथ आती है।” बर्न विलियम्स
“Tranquility is like quicksilver. The harder you grab for it, the less likely you will grasp it.” Bern Williams

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment