ढोलन कुंजकली : यादवेन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Dholan Kunjgali : by Yadvendra Sharma ‘Chandra’ Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

ढोलन कुंजकली : यादवेन्द्र शर्मा 'चन्द्र' द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Dholan Kunjgali : by Yadvendra Sharma 'Chandra' Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ढोलन कुंजकली / Dholan Kunjgali
Author
Category, , , ,
Language
Pages 154
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ढोलन रूपाली ने पूरब की ओर देखा। सूरज अभी निकला नहीं था मगर उजास फैला रहा था। उस उजास पर जीण जीण चुनरिया सा बादल का एक टुकड़ा लटका-लटका सा लग रहा था। तभी सदा की तरह वही काना कौवा आकर काव-काव करने लगा जिसके पंख नोचे-नोचे से लगते थे। उसने हिस्स्स्स कहकर उड़ाया……..

Pustak Ka Vivaran : Dholan Roopali ne poorab kee or dekha. Sooraj abhee nikala nahin tha magar ujas phaila raha tha. Us ujas par jeen jeen chunariya sa badal ka ek tukada lataka-lataka sa lag raha tha. Tabhi sada kee tarah vahi kana kauva aakar kav-kav karane laga jisake pankh noche-noche se lagate the. Usane hissss kahakar udaya…………

Description about eBook : Dholan Rupali looked towards the east. The sun had not yet come out, but the light was spreading. A piece of cloud seemed like a hang-over on that energy. Then, like always, the same Kana crow came and started to do Kava-Kava whose wings used to be scratched. He flew as part……….

“व्यक्ति अपने कार्यों से महान होता है, अपने जन्म से नहीं।” चाणक्य
“A man is great by deeds, not by birth.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment