ढोलन कुंजकली : यादवेन्द्र शर्मा ‘चन्द्र’ द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Dholan Kunjgali : by Yadvendra Sharma ‘Chandra’ Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameढोलन कुंजकली / Dholan Kunjgali
Author
Category, , , ,
Language
Pages 154
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : ढोलन रूपाली ने पूरब की ओर देखा। सूरज अभी निकला नहीं था मगर उजास फैला रहा था। उस उजास पर जीण जीण चुनरिया सा बादल का एक टुकड़ा लटका-लटका सा लग रहा था। तभी सदा की तरह वही काना कौवा आकर काव-काव करने लगा जिसके पंख नोचे-नोचे से लगते थे। उसने हिस्स्स्स कहकर उड़ाया……..

Pustak Ka Vivaran : Dholan Roopali ne poorab kee or dekha. Sooraj abhee nikala nahin tha magar ujas phaila raha tha. Us ujas par jeen jeen chunariya sa badal ka ek tukada lataka-lataka sa lag raha tha. Tabhi sada kee tarah vahi kana kauva aakar kav-kav karane laga jisake pankh noche-noche se lagate the. Usane hissss kahakar udaya…………

Description about eBook : Dholan Rupali looked towards the east. The sun had not yet come out, but the light was spreading. A piece of cloud seemed like a hang-over on that energy. Then, like always, the same Kana crow came and started to do Kava-Kava whose wings used to be scratched. He flew as part……….

“आप हमेशा परिस्थितियों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप स्वयं को नियंत्रित कर सकते हैं।” ‐ एंथनी रोब्बिन्स
“You can’t always control the wind, but you can control your sails.” ‐ Anthony Robbins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment